केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा आने वाले कई त्योहारों की वजह से सितंबर और अक्टूबर के महीने बेहद महत्वपूर्ण.

नई दिल्ली : देशभर में कोरोना के नए मामलों में कमी के बीच केरल ने चिंता बढ़ा दी है. आज केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटे में 58.4 फीसदी केरल में सामने आए है. जबकि  महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में 10,000 से 1 लाख सक्रिय मामले हैं. केरल का योगदान 51 फीसद, महाराष्ट्र में 16 फीसद और बाकी तीन राज्यों का योगदान देश के 4-5 फीसद मामलों में है.  देश के 41 जिलों में साप्ताहिक संक्रमण दर दस फीसदी से अधिक है.


केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा, ‘‘देश में कोरोना की दूसरी लहर अब भी जारी है. दूसरी लहर अभी समाप्त नहीं हुई है और इसलिए हमें सभी एहतियात बरतने की जरूरत है, खासकर हर त्योहार के बाद संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए. सितंबर और अक्टूबर के महीने हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं क्योंकि हम नए त्योहार मनाने जा रहे हैं. इसलिए कोविड उपयुक्त व्यवहार अपनाते हुए त्योहार मनाए जाने चाहिए. कोरोना के टीके रोग में सुधार के लिए हैं न कि रोग को रोकने के लिए, इसलिए टीकाकरण के बाद भी मास्क का उपयोग करना बहुत जरूरी है.


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, एक दिन में कोरोना वायरस से 46,164 लोग संक्रमित पाए गए. इसके बाद भारत में कोरोना  के कुल मामलों की संख्या 3,25,58,530 हो गई. सुबह आठ बजे जारी आंकड़ों के मुताबिक, 607 लोगों की मौत होने के साथ मृतकों की संख्या 4,36,365 हो गई है.

केरल स्वास्थ्य विभाग की तरफ से बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, राज्य में 31,445 नए मामले सामने आए थे और इसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या 38,83,429 हो गई थी. 215 मरीजों की मौत हुई थी. केरल में शनिवार को 17,106, रविवार को 10,402, सोमवार को 13,383 और मंगलवार को 24,296 कोरोना केस की पुष्टि हुई थी. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *